पॉवर सिस्टम ऑपरेशन कारपोरेशन लिमिटेड 
(भारत सरकार का उधम)
 POSOCO   दक्षिण क्षेत्रीय भार प्रेषण केंद्र
Skip Navigation Links
हमारे बारे मेंExpand हमारे बारे में
डाउनलोडExpand डाउनलोड
साइट मैपExpand साइट मैप
सूचना केन्द्रExpand सूचना केन्द्र
हमें संपर्क करेंExpand हमें संपर्क करें
अन्य आरएलडीसीExpand अन्य आरएलडीसी
खोजExpand खोज
Skip Navigation Links
होम
शिड्यूलिंगExpand शिड्यूलिंग
ओपन एक्सेसExpand ओपन एक्सेस
वाणिज्यिकExpand वाणिज्यिक
रिपोर्टExpand रिपोर्ट
आरईसी तंत्र
क्विक लिंक्स
मौसम
शिकायत प्रबंधन
एसआरएलडीसी ई-मेल
एसआरएलडीसी इंट्रानेट
उद्घोषणा
आपके सुझाव


क्षेत्रीय विद्युत प्रणाली के बारे में संक्षिप्त विवरण...
 

i) दक्षिण क्षेत्र की विद्युत प्रणाली 6,51,000 वर्ग किलो‍मीटर में व्‍याप्‍त है और जिसमें आंध्र प्रदेश, कना्रटक, केरल, और तमिल नाडु राज्‍य एवं संघशासित पुदुचेरी, केंद्रीय एवं राज्‍य के उत्‍पादन केंद्र, स्‍वतंत्र विद्युत उत्‍पादन केंद्र, राज्‍य वितरण कंपनियॉं एवं राज्‍य पारेषण एकक आदि शामिल हैं।

ii) दिनांक 31 मार्च 2011 के अनुसार दक्षिण क्षेत्री की कुल स्‍थापित क्षमता 50,164 मेगावाट हैं, जिसमें 40,414 मेगावाट राज्‍यों की है और 9,750 मेगावाट केंद्रीय क्षेत्र की हैं।

iii) सभी राज्‍य 400 /220 के.वी. नोटवर्क से परस्‍पर जुड़े हुए हैं। आधिक्‍य क्षेत्र से घाटे के क्षेत्र / राज्‍य के लिए विद्युत विनिमय करने एवं व्‍हीलिंग करने की दृष्टि से, दक्षिण क्षेत्र पश्चिम क्षेत्र के भद्रावति में एचवीडीसी बैक-टू-बैक लिंक के जरिए पश्चिम क्षेत्र के साथ जोड़ा गया है। उसी तरह पूर्वी क्षेत्र के साथ दक्षिण क्षेत्र के गजुवाका में, एचवीडीसी बैक-टू-बैक लिंक के जरिए एवं पूर्वी क्षेत्र के तालचेर में ± 500 केवी एचवीडीसी लिंक के जरिए जोड़ा गया है।

दक्षिणी क्षेत्र ने औसतन 596.0 एमयू की दैनिक ऊर्जा खपत के साथ वर्ष 2010-11 के दौरान 30 मार्च 2011 को 31,927 मेगावाट की अधिकतम मांग को पूरा की है।














पावर ट्रांसमिशन में विश्वसनीयता, सुरक्षा और मितव्य्यता सर्वश्रेष्ठ स्क्रीन संकल्प 1024 से 768 : ©2000-2007 पावरग्रिड